Hello guys I hope you are doing well, I have a request from all of you, can you please click on some ads as shown on this website, Your one click motivate me to write more essays for you, I like to say thank you so much for your lovely comments it's really means me alot.

Principles of Reduce, Reuse and Recycle in Plastic Waste Management Essay in Hindi

 

Plastic Waste Management Essay  in Hindi



Principles of Reduce, Reuse and Recycle in Plastic Waste Management Essay  in Hindi


प्लास्टिक प्रदूषण को कम करने के लिए पुन: उपयोग और पुनर्चक्रण को प्रबंधित करने के लिए, पर्यावरण अस्तित्व के लिए इन सिद्धांतों का पालन करें।


परिचय

आज प्लास्टिक कचरा भारत के सामने सबसे बड़ी पर्यावरणीय चुनौतियों में से एक है। मौजूदा स्थिति यह है कि हर साल 56 लाख टन कचरा जमा होता है यानी हर दिन 9205 टन प्लास्टिक। समुद्र हो या नदियां, पहाड़ हों या खाली मैदान, प्लास्टिक कचरा हर जगह हमारे पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रहा है।

यह विश्वास करना असंभव है कि जिस प्लास्टिक का आविष्कार लोगों ने दशकों पहले सुविधा के लिए किया था, वह आज धीरे-धीरे एक पर्यावरणीय संकट बन गया है। इसलिए प्लास्टिक कचरे से पर्यावरण को होने वाले नुकसान को देखते हुए इसके इस्तेमाल को कम करने के लिए कदम उठाना जरूरी हो गया है।

आज हर कोई कम करने, पुन: उपयोग करने और पुनर्चक्रण के तीन सिद्धांतों से परिचित है। ये सिद्धांत हमारे पर्यावरण के लिए भी फायदेमंद हैं। तो आज अगर हम इन तीन सिद्धांतों का पालन करें, कम करें, पुन: उपयोग करें और रीसायकल करें तो यह प्लास्टिक कचरे के प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

कम करना:-

प्लास्टिक को मैनेज करने के लिए सबसे पहला सिद्धांत है कम करना। आज प्लास्टिक कचरे के प्रबंधन का सबसे प्रभावी तरीका है कि पहले प्लास्टिक का निर्माण न किया जाए।

हां, उपयोग के बाद प्लास्टिक की बोतल को रीसायकल करना संभव है, लेकिन इसे पहले कभी भी इस्तेमाल न करना बेहतर है। अगर हम प्लास्टिक का इस्तेमाल कम करेंगे तो निश्चित तौर पर प्लास्टिक कचरा भी कम होगा।

इसके अलावा, हम केवल थोक में उत्पाद खरीदकर भी प्लास्टिक के उपयोग को कम कर सकते हैं जैसे कि एक महीने में दो बोतल शैम्पू खरीदने के बजाय, शैम्पू की एक बड़ी बोतल खरीदें।

ऐसा करने से प्लास्टिक और अन्य बोतलों में इस्तेमाल होने वाली पैकेजिंग सामग्री की भी बचत होगी। इसलिए, अगर हम प्लास्टिक का इस्तेमाल समझदारी और सावधानी से करें तो हम प्लास्टिक कचरे को काफी हद तक कम कर सकते हैं।

पुन: उपयोग:- प्लास्टिक कचरे के प्रबंधन के लिए दूसरा सिद्धांत पुन: उपयोग है। आज अगर हम प्लास्टिक कचरे का प्रबंधन करना चाहते हैं तो हमें प्लास्टिक के पुन: उपयोग पर जोर देना चाहिए।

आज हमें प्लास्टिक को फेंकने के बजाय उसे रचनात्मक तरीके से बदलना चाहिए और उसका पुन: उपयोग करना चाहिए। जैसे, अगर हमारे पास प्लास्टिक के कुछ खाली डिब्बे हैं तो हम उन्हें फेंकने के बजाय बगीचों में फूल लगाकर इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसके अलावा अगर कोई प्लास्टिक की चीज जो हमारे काम की नहीं है तो उसे फेंकने के बजाय किसी और को दे दें क्योंकि कुछ चीजें जो हमें बेकार लगती हैं, वे दूसरों के लिए बहुत मददगार होती हैं। इससे प्लास्टिक का दोबारा इस्तेमाल होगा।

बस, अगर हम प्लास्टिक का पुन: उपयोग करेंगे तो इससे नए प्लास्टिक का उत्पादन कम होगा और फिर प्लास्टिक कचरे का उचित प्रबंधन होगा।

रीसायकल:-

प्लास्टिक के प्रबंधन के लिए तीसरा सिद्धांत रीसायकल है। वर्तमान समय में प्लास्टिक आधुनिक जीवन की आवश्यकता है लेकिन यह प्रदूषण का एक प्रमुख कारण भी है। लेकिन आज सही योजना, समझ और प्रयास से हम प्लास्टिक प्रदूषण को काफी हद तक कम कर सकते हैं। आज रीसाइक्लिंग की मदद से पृथ्वी का बहुत सारा कचरा कम हो गया है।

अतः पुनर्चक्रण द्वारा हम प्लास्टिक प्रदूषण को भी नियंत्रित कर सकते हैं। पुनर्चक्रण में, प्लास्टिक को छोटे-छोटे ब्लॉकों में तोड़कर नई सामग्री बनाई जाती है ताकि हम उनका फिर से उपयोग कर सकें। इसलिए पुनर्चक्रण प्लास्टिक कचरे को पुन: प्रयोज्य बनाता है।

निष्कर्ष


यह सच है कि आज प्लास्टिक हमारे जीवन का हिस्सा बन गया है और यह पर्यावरण के लिए भी खतरनाक है लेकिन प्लास्टिक कचरे को रिड्यूस, रीयूज और रीसायकल के सिद्धांतों के साथ अच्छी तरह से प्रबंधित किया जा सकता है।

तो अब समय आ गया है कि हम प्लास्टिक कचरे को खत्म कर अपनी धरती को स्वच्छ और स्वस्थ बनाने की दिशा में कदम उठाएं।

"प्लास्टिक प्रदूषण को समाप्त करने के लिए अपने हाथ उठाएं, पर्यावरण को बचाने के लिए ही समाधान है"।


प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन में कमी, पुन: उपयोग, पुनर्चक्रण के सिद्धांतों पर निबंध


"अगर हम प्लास्टिक को ना कहें तो

56 पर्यावरण हमारी ओर मुस्कुराएगा

तो, प्लास्टिक की थैलियों में कमी, पुन: उपयोग, पुनर्चक्रण के सिद्धांत..."


प्लास्टिक का पानी हमारे घरों और कार्यालयों से लैंडफिल और दूषित पानी के निकायों तक अपना रास्ता बनाता है, प्लास्टिक प्रदूषण वैश्विक समस्या बनता जा रहा है, सरकारें, फाउंडेशन और कुछ सोशल मीडिया संगठन सभी इस मुद्दे के बारे में जागरूकता बढ़ाने का प्रयास कर रहे हैं, प्लास्टिक के सामान आमतौर पर उपयोग किए जाते हैं उद्योग में क्योंकि वे अन्य सामग्रियों की तुलना में अधिक प्रभावी और कम खर्चीले हैं।

प्लास्टिक प्रदूषण का हमारी जलवायु पर कई नकारात्मक प्रभाव पड़ता है लेकिन तीन सबसे महत्वपूर्ण हैं समुद्र प्रदूषण, भूमि प्रदूषण और खाद्य प्रदूषण, एक प्लास्टिक की थैली बोलती है... "कि आज तुमने मुझे फेंक दिया कल मैं तुम्हें नष्ट कर दूंगा"।

जब प्लास्टिक का उत्पादन किया जाता है, तो यह बेंजीन और विनाइल हाइड्रोक्लोराइड जैसे जहरीले पदार्थों से बना होता है, इन रसायनों को कैंसर का कारण माना जाता है और विनिर्माण उप-उत्पाद हमारी हवा और मिट्टी को दूषित करते हैं।

आज के समय में यह जरूरी है कि प्लास्टिक प्रदूषण को रोका जाए और इसके लिए एक बेहतर समाधान का इस्तेमाल किया जाए, सबसे प्रभावी सिद्धांत है रिड्यूस, रीयूज, रिसाइकिल इसे 3आर के नाम से भी जाना जाता है।

प्लास्टिक प्रदूषण को कम करने का सबसे प्रभावी तरीका प्लास्टिक को पहले स्थान पर नहीं बनाना है, प्लास्टिक को प्लास्टिक की पानी की बोतल को कम करना और मना करना बहुत अच्छा है, हमारे पर्यावरण को स्वच्छ और स्वस्थ रखने के तीन सूत्र हैं, कम करना, पुन: उपयोग करना और रीसायकल करना,

यदि इन उपकरणों का सभी द्वारा सकारात्मक रूप से उपयोग किया जाता है, तो जल्द ही हम अपनी दुनिया को अधिक सुखद तरीके से जीवित रहने के लिए एक बेहतर जगह के रूप में बदलते हैं, हमें प्लास्टिक की थैलियों को बदलने के लिए कपड़े, अखबार और जूट के थैलों का उपयोग करना चाहिए।

अगर प्लास्टिक को कम करने के लिए इन तीन सिद्धांतों को अपनाया जाता है, तो भविष्य बहुत सुनहरा होगा और हंसती हुई हरियाली के पालने में झूलती हमारी धरती का नजारा।


Also read: प्लास्टिक मुक्त भारत पर निबंध हिंदी 

Also read: Elimination of Single Use Plastic Essay

Also read: A Future without Plastic Waste through Sustainability and Circularity Essay

Also read: Essay On Mainstreaming alternatives to Single Use Plastic Products through Innovation and Creativity

Also read: Essay On Strategy Of 6r's- Reduce, Reuse, Recycle, Recover, Redesign, Remanufacture

Also read: Essay On Innovative Ideas for Zero Plastic Waste

Also read:  Essay on harmful effects of plastic bags


 THANK YOU SO MUC

Comments

Popular posts from this blog

Independent India 75 self reliance with integrity essay in english

Essay On Places related to Freedom Struggle

Azadi ka Amrit Mahotsav essay in english Pdf

Speech on Independent India @75 Self Reliance with Integrity

Role of Police in Nation Building Essay

Independent India @75 Self Reliance with Integrity essay in Hindi