Skip to main content

My vision for India in 2047 Essay in Hindi

 


My fitness mantra essay in Hindi

My vision for India in 2047 Essay in Hindi

जाति धर्म का भाव नहीं, 

विकसित अर्थव्यवस्था का आधार होगा, 

2047 में सुरक्षित और आत्मनिर्भर 

भारत का सपना साकार होगा। 

हमारा देश भारत 15 अगस्त सन 1947 को अंग्रेजों की 200 वर्षों की गुलामी से आजाद हुआ था। आजादी को 75 वर्ष पूरे होने को हैं। इस अवसर पर सम्पूर्ण देश आज़ादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। 25 वर्ष बाद सन 2047 में देश को आज़ाद हुए 100 वर्ष हो जाएंगे। आने वाले यह 25 वर्ष देश के लिए अमृत काल है। 

हालांकि देश बीते 75 वर्षों से निरन्तर विकास के पथ पर अग्रसर है किंतु आने वाले 25 वर्षों में हम भारतवासियों को उतना सामर्थ्यवान बनना होगा, जितना हम पहले कभी नहीं थे। सन 2047 को लेकर हमें लक्ष्य निर्धारित करना होगा कि आखिर आज़ादी के 100 वर्ष पूरे होने पर हम भारत को कहां देखते हैं। 

इसके लिए सबको मिलझुलकर देश के विकास हेतु प्रयास करना होगा ताकि हममें सामूहिकता की भावना जगे और खंडित सोच से मिटे। वास्तव में, इस अमृत काल का लक्ष्य है एक ऐसे भारत का निर्माण, जहां दुनिया का हर आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर हो, ताकि विकास पथ पर हमलोग निरंतर फर्राटे भरते रहें। इसलिए अब हम सबका कर्तव्य है कि उनके सपनों के नए भारत के पुनर्निर्माण में जुट जाएं। अब और विलम्ब न करें। 

आज आज़ादी के 75 वर्षों का जश्न मनाते हुए हर भारत वासी एक नए भारत का स्वप्न देख रहा है। एक ऐसा भारत जो पूरी तरह से विकसित है,जहां पर हर युवा के पास रोजगार है,जहाँ पर कोई गरीबी और भुखमरी से नहीं मर रहा। सभी की तरह मैं भी 2047 के भारत को भ्रष्टाचार मुक्त भारत के रूप में देखता हूँ। 

मैं देखता हूँ कि 2047 में देश से जाति, धर्म व सम्प्रदाय के नाम पर कोई द्वेष नहीं है। 2047 के भारत की गलियों पर निकलने वाली हर लड़की बिल्कुल सुरक्षित है। मैं भारतीय अर्थव्यवस्था को दुनिया की सबसे स्थापित और विकसित अर्थव्यवस्था के रूप में देखता हूं। 

आज भारत किसी भी क्षेत्र में दूसरे देश पर निर्भर नहीं है। मैं कल्पना करता हूं कि मेरे देश के सभी प्रमुख शहर पूरी तरह . से विकसित शहरों में बदल गए हैं। 2047 के भारत की महिला को सशक्त रूप में देखता हूँ, जिसे पुरुष के बराबर अधिकार प्राप्त हैं, जिसके साथ नौकरी में कोई भेदभाव नहीं किया जाता। 

मैं भारत में चिकित्सा सुविधा को आम जनता तक आसानी से पहुंचता हुआ देखता हूं। 2047 के भारत का हर बच्चा शिक्षित होगा ऐसा मेरा दृष्टिकोण है, जो अवश्य ही सार्थक होगा। इसके लिए हम सबको अभी से प्रयास करने शुरू कर देने चाहिए। हमें आपसी भेदभाव भुलाकर आगे nor बढ़ने की आवश्यकता है। 

यदि हम एकता के साथ सशक्त होकर प्रयास करेंगे तो भारत निश्चित रूप से आत्मनिर्भर बनेगा और 2047 तक विश्वगुरु का खिताब अवश्य ही अपने नाम कर लेगा। "सबके साथ के साथ सार्थक हर प्रयास होगा, विश्वगुरु का खिताब भारत के ही पास होगा।" 


Essay on Unsung Heroes of Freedom Struggle

My vision for India in 2047 Essay in Hindi

विकसित करने के लिए विकास

एक राष्ट्र की यात्रा है

"मैं" से "मैं" और "मेरा" से "हमारा"

मिशन 2047 की कुंजी है।

भारत अपनी आजादी के पचहत्तर वर्ष मना रहा है। देश को बड़ा और लोकतांत्रिक रूप से सफल बनाने का सपना हर किसी का होता है। एक ऐसा देश जहां सभी क्षेत्रों में समानता है और सभी पीढ़ियों के लिए यह प्रगति का गवाह है।

औरों की तरह मेरा भी अपने देश भारत के लिए एक सपना है और ऐसा होना चाहिए कि मैं जीने के लिए और आने वाली पीढ़ी को भी गर्व महसूस कर सकूं। वर्ष 2047 विकास, विकास, लिंग, समानता, रोजगार और अन्य कारकों के चश्मे से इनिया को देखने के लिए ऐतिहासिक वर्ष होगा।

हम जो सपना देखते हैं वही हम देखते हैं, इसी तरह, हम 2047 के भारत की कल्पना कैसे करते हैं, यह तय करेगा कि हम अगले पच्चीस साल में क्या क्रांतियां अपनाएंगे। भारत को गरीबी, बेरोजगारी, कुपोषण, भ्रष्टाचार और अन्य सामाजिक बुराइयों से मुक्त देखना चाहता है।

अगले पच्चीस वर्षों में, भारत को आंतरिक और बाह्य दोनों रूप से एक शक्तिशाली राष्ट्र के रूप में बदलना चाहिए। इस पर, एक विकासशील राष्ट्र के रूप में हमारा सबसे महत्वपूर्ण लक्ष्य आर्थिक मोर्चों पर काम करना और कुछ प्रमुख सुधारों को लाकर अपनी अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाना होना चाहिए।

आर्थिक क्षेत्र के अलावा, लैंगिक समानता की दिशा में काम करने और सभी को उनकी पृष्ठभूमि के बावजूद समान अवसर प्रदान करने की आवश्यकता है।

अगले पच्चीस वर्ष न केवल हमारे देश के लिए बल्कि भारत के नागरिकों के रूप में हमारे लिए भी अत्यंत महत्वपूर्ण होंगे। यात्रा कठिन हो सकती है लेकिन गंतव्य पुरस्कृत होने का वादा करता है। हम एक ऐसे देश को देखेंगे जो इतना शक्तिशाली फिर भी इतना एकजुट है।



"Also read: Postcard On My Vision Of India In 2047 In English"



Also read: Essay on Stepping into 2047 How India will Become a Developed Nation 

Also read: स्वतंत्रता संग्राम के गुमनाम नायकों पर पोस्टकार्ड

Also read: Unsung Heroes of Freedom Struggle Postcard Writing

Also read: Essay On My Vision For India in 2047 

Also read: Essay on My Fitness Mantra on AKAM in English 

Also read: Essay on my fitness mantra on AKAM

Also read: If I had been a gallantry award winner


 THANK YOU SO MUCH 



Comments

  1. I LIKE YOUR EFFORTS IN WRITING ESSAYS

    ReplyDelete
  2. Can u write an essay in Hindi / English both the topic us my vision for india in 2047

    ReplyDelete
  3. अगले पच्चीस वर्ष न केवल हमारे देश के लिए बल्कि भारत के नागरिकों के रूप में हमारे लिए भी अत्यंत महत्वपूर्ण होंगे। यात्रा कठिन हो सकती है लेकिन गंतव्य पुरस्कृत होने का वादा करता है। हम एक ऐसे देश को देखेंगे जो इतना शक्तिशाली फिर भी इतना एकजुट है। curse of strahd pdf google drive

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

My vision for India in 2047 postcard

  My vision for India in 2047 postcard "Our pride for our country should not come after our country is great. Our pride makes our country great." Honourable Prime Minister, Mr. Narendra Modi Ji, As we all know that India got independence in 1947 and by 2047 we will be celebrating our 100th year of independence. On this proud occasion, I would like to express my vision for India in 2047. My vision for India in 2047 is that India should be free from corruption, poverty, illiteracy, crime and everything that India is lacking.   My vision for India is peace, prosperity and truth. My vision for India is that no child should beg, no child should be forced into bonded labour. My biggest dream is to see women empowerment in all fields for India where every person gets employment opportunities. My vision for India is that everyone should have equal respect, there is no discrimination of caste, gender, colour, religion or economic status, I want India to be scientifically advanced, tec

Essay on my Vision for India in 2047 in 150,300,400 Words

  Essay On My Vision For India In 2047 ( 100- Words) By 2047 India celebrates its 100th year of Independence. Our Country in 2047 will be what we create today.  By 2047, I want to see India free from poverty, unemployment, malnutrition, corruption, and other social evils. Poor children should get an education.  There should be no gap between the rich and the poor. India should continue to be the land of peace, prosperity, and truthfulness.  Our country should continue to be secular where all religions are treated equally.  Entire world respects and recognizes the strength of India. I aspire that our country should become the largest economy in the world by 2047.  We all should work together to achieve it in the next 25 years.  Also read:  My Vision For India In 2047 Postcard 10 lines Essay On My Vision For India In 2047  ( 200 Words) Developing to develop Is the journey of a nation "I" to "me" and "My" to "our" Is the key to mission 2047. India i

Education should be free for everyone Essay

10 Lines on Education Should Be Free  1. Education should be free for everyone as it is a basic human right. 2. Free education promotes equal opportunities and reduces social inequalities. 3. Providing free education ensures that financial constraints do not hinder individuals from accessing knowledge and skills. 4. Free education empowers individuals to break the cycle of poverty and achieve their full potential. 5. Accessible education leads to a more educated and skilled workforce, contributing to economic growth. 6. Free education fosters social mobility and allows individuals to pursue higher education regardless of their financial background. 7. It promotes a more inclusive society where success is based on merit and ability rather than financial resources. 8. Free education nurtures informed citizens who are critical thinkers and actively contribute to the betterment of society. 9. Investing in free education is an investment in the future of a nation, as educated individual