Skip to main content

My Vision for India 100 Years Paragraph 150 words, 400 words

Essay on My vision for India @ 100 years Paragraph 150 words Introduction: India is a developing country that needs many things for development. India is going to complete 100 years of its independence and sovereignty, which inspires Indians to think big and make them strong. Body After 100 years of independence, my vision for India of 2047 is to be strong like the freedom fighters who fought for our country and lost their lives in making India an independent country. My vision for India in 2047 is to be self-reliant in every decision so that gaps can be bridged in such a way that no one has to struggle to find a home and earn a living. In the year 2047, India should be known as a superpower and not a country that is not only known for its culture but also for its valour and defence capability. The literacy rate should touch an all-time high percentage and people should become as humble and knowledgeable as our ancestors were in different eras. My vision for India in 100 years i

My vision for India in 2047 Essay in Hindi

 


My fitness mantra essay in Hindi

My vision for India in 2047 Essay in Hindi

जाति धर्म का भाव नहीं, 

विकसित अर्थव्यवस्था का आधार होगा, 

2047 में सुरक्षित और आत्मनिर्भर 

भारत का सपना साकार होगा। 

हमारा देश भारत 15 अगस्त सन 1947 को अंग्रेजों की 200 वर्षों की गुलामी से आजाद हुआ था। आजादी को 75 वर्ष पूरे होने को हैं। इस अवसर पर सम्पूर्ण देश आज़ादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। 25 वर्ष बाद सन 2047 में देश को आज़ाद हुए 100 वर्ष हो जाएंगे। आने वाले यह 25 वर्ष देश के लिए अमृत काल है। 

हालांकि देश बीते 75 वर्षों से निरन्तर विकास के पथ पर अग्रसर है किंतु आने वाले 25 वर्षों में हम भारतवासियों को उतना सामर्थ्यवान बनना होगा, जितना हम पहले कभी नहीं थे। सन 2047 को लेकर हमें लक्ष्य निर्धारित करना होगा कि आखिर आज़ादी के 100 वर्ष पूरे होने पर हम भारत को कहां देखते हैं। 

इसके लिए सबको मिलझुलकर देश के विकास हेतु प्रयास करना होगा ताकि हममें सामूहिकता की भावना जगे और खंडित सोच से मिटे। वास्तव में, इस अमृत काल का लक्ष्य है एक ऐसे भारत का निर्माण, जहां दुनिया का हर आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर हो, ताकि विकास पथ पर हमलोग निरंतर फर्राटे भरते रहें। इसलिए अब हम सबका कर्तव्य है कि उनके सपनों के नए भारत के पुनर्निर्माण में जुट जाएं। अब और विलम्ब न करें। 

आज आज़ादी के 75 वर्षों का जश्न मनाते हुए हर भारत वासी एक नए भारत का स्वप्न देख रहा है। एक ऐसा भारत जो पूरी तरह से विकसित है,जहां पर हर युवा के पास रोजगार है,जहाँ पर कोई गरीबी और भुखमरी से नहीं मर रहा। सभी की तरह मैं भी 2047 के भारत को भ्रष्टाचार मुक्त भारत के रूप में देखता हूँ। 

मैं देखता हूँ कि 2047 में देश से जाति, धर्म व सम्प्रदाय के नाम पर कोई द्वेष नहीं है। 2047 के भारत की गलियों पर निकलने वाली हर लड़की बिल्कुल सुरक्षित है। मैं भारतीय अर्थव्यवस्था को दुनिया की सबसे स्थापित और विकसित अर्थव्यवस्था के रूप में देखता हूं। 

आज भारत किसी भी क्षेत्र में दूसरे देश पर निर्भर नहीं है। मैं कल्पना करता हूं कि मेरे देश के सभी प्रमुख शहर पूरी तरह . से विकसित शहरों में बदल गए हैं। 2047 के भारत की महिला को सशक्त रूप में देखता हूँ, जिसे पुरुष के बराबर अधिकार प्राप्त हैं, जिसके साथ नौकरी में कोई भेदभाव नहीं किया जाता। 

मैं भारत में चिकित्सा सुविधा को आम जनता तक आसानी से पहुंचता हुआ देखता हूं। 2047 के भारत का हर बच्चा शिक्षित होगा ऐसा मेरा दृष्टिकोण है, जो अवश्य ही सार्थक होगा। इसके लिए हम सबको अभी से प्रयास करने शुरू कर देने चाहिए। हमें आपसी भेदभाव भुलाकर आगे nor बढ़ने की आवश्यकता है। 

यदि हम एकता के साथ सशक्त होकर प्रयास करेंगे तो भारत निश्चित रूप से आत्मनिर्भर बनेगा और 2047 तक विश्वगुरु का खिताब अवश्य ही अपने नाम कर लेगा। "सबके साथ के साथ सार्थक हर प्रयास होगा, विश्वगुरु का खिताब भारत के ही पास होगा।" 


Essay on Unsung Heroes of Freedom Struggle

My vision for India in 2047 Essay in Hindi

विकसित करने के लिए विकास

एक राष्ट्र की यात्रा है

"मैं" से "मैं" और "मेरा" से "हमारा"

मिशन 2047 की कुंजी है।

भारत अपनी आजादी के पचहत्तर वर्ष मना रहा है। देश को बड़ा और लोकतांत्रिक रूप से सफल बनाने का सपना हर किसी का होता है। एक ऐसा देश जहां सभी क्षेत्रों में समानता है और सभी पीढ़ियों के लिए यह प्रगति का गवाह है।

औरों की तरह मेरा भी अपने देश भारत के लिए एक सपना है और ऐसा होना चाहिए कि मैं जीने के लिए और आने वाली पीढ़ी को भी गर्व महसूस कर सकूं। वर्ष 2047 विकास, विकास, लिंग, समानता, रोजगार और अन्य कारकों के चश्मे से इनिया को देखने के लिए ऐतिहासिक वर्ष होगा।

हम जो सपना देखते हैं वही हम देखते हैं, इसी तरह, हम 2047 के भारत की कल्पना कैसे करते हैं, यह तय करेगा कि हम अगले पच्चीस साल में क्या क्रांतियां अपनाएंगे। भारत को गरीबी, बेरोजगारी, कुपोषण, भ्रष्टाचार और अन्य सामाजिक बुराइयों से मुक्त देखना चाहता है।

अगले पच्चीस वर्षों में, भारत को आंतरिक और बाह्य दोनों रूप से एक शक्तिशाली राष्ट्र के रूप में बदलना चाहिए। इस पर, एक विकासशील राष्ट्र के रूप में हमारा सबसे महत्वपूर्ण लक्ष्य आर्थिक मोर्चों पर काम करना और कुछ प्रमुख सुधारों को लाकर अपनी अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाना होना चाहिए।

आर्थिक क्षेत्र के अलावा, लैंगिक समानता की दिशा में काम करने और सभी को उनकी पृष्ठभूमि के बावजूद समान अवसर प्रदान करने की आवश्यकता है।

अगले पच्चीस वर्ष न केवल हमारे देश के लिए बल्कि भारत के नागरिकों के रूप में हमारे लिए भी अत्यंत महत्वपूर्ण होंगे। यात्रा कठिन हो सकती है लेकिन गंतव्य पुरस्कृत होने का वादा करता है। हम एक ऐसे देश को देखेंगे जो इतना शक्तिशाली फिर भी इतना एकजुट है।



"Also read: Postcard On My Vision Of India In 2047 In English"



Also read: स्वतंत्रता संग्राम के गुमनाम नायकों पर पोस्टकार्ड

Also read: Unsung Heroes of Freedom Struggle Postcard Writing

Also read: Essay On My Vision For India in 2047 

Also read: Essay on My Fitness Mantra on AKAM in English 

Also read: Essay on my fitness mantra on AKAM

Also read: If I had been a gallantry award winner


 THANK YOU SO MUCH 



Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

Essay On My Vision For India In 2047

  Essay On My Vision For India In 2047  "India will be a developed economy,  On the basis of love and harmony." Our country India became free from the slavery of 200 years of British on 15th August 1947. Independence is about to complete 75 years. On this occasion, the entire country is celebrating the Azadi ka Amrit Mahotsav.  After 25 years, in the year 2047, it will be 100 years since the country got independence. The coming 25 years are the Amrit Kaal for the country. Although the country is on the path of continuous development for the last 75 years, but in the coming 25 years, we Indians will have to become as powerful as we were never before.   With regard to the year 2047, we have to set a target that after completing 100 years of independence, where do we see India. For this, everyone will have to work together for the development of the country so that the spirit of unity arises in us and gets rid of fragmented thinking. In fact, the goal of this 'Amrit Kaal'

Azadi ka Amrit Mahotsav essay in english Pdf

 Azadi ka Amrit Mahotsav essay Azadi Ka Amrit Mahotsav is an initiative of the Government of India to celebrate and commemorate 75 years of independence of progressive India and the glorious history of its people, culture, and achievements.  The Prime Minister, Shri Narendra Modi inaugurated the ‘Azadi Ka Amrit Mahotsav’ by flagging off ‘Dandi March’ from Sabarmati Ashram, Ahmedabad on 12th March 2021.  The celebrations started 75 weeks before our 75th anniversary of Independence and will end on 15th August 2023. The idea behind taking it 75 weeks before 15 August 2022 and by Independence Day 2023 is to instill a sense of pride in the achievements of people after 1947 and the vision of India for the year 2047.  The PM had launched ‘Azadi Ka Amrut Mahotsav’ in Gujarat and he paid tribute to Mahatma Gandhi and all other freedom fighters who lost their lives fighting for the country’s independence before flagging off the event. ‘Azadi ka Amrut Mahotsav’ means the “elixir of the energy of

Happy New Year 2022 Speech in English

  Happy New Year 2022 Speech in English Today we gather to usher in a new bringing, a time to start with new hopes, desires, expectations and New Year resolutions. Those also give is an edge and excitement going into the new year, a fresh start. Therefore, it is no surprise that people want to celebrate the beginning of the New Year with a joyful celebration with their loved ones. This is what is like the new year celebration. It is a modern form of the festival that has become a ritual performed by urban areas in particular. Closing of the week-long celebrations starts with Christmas Eve. New year comes the exclamation point. People of all ages and from different walks of life come together, to usher in a year of prospering and health. The fact Because the new year is usually the last day before returning to work, people try extra hard to enjoy the festivities. Ofter kinds are instructed to report their experiments and present the same when the school reopens after the winter holidays