Skip to main content

Essay on fitness beats pandemic in hindi

 

Essay on fitness beats pandemic in hindi


Essay on fitness beats pandemic in hindi


फिटनेस हराया पेन्डामिक को निबंध 



हमने हमेशा 'स्वास्थ्य' और 'फिटनेस' शब्द को सुना है। जब हम कहते हैं कि it स्वास्थ्य ही धन है ’और the फिटनेस ही कुंजी है’ का प्रयोग हम स्वयं करते हैं। स्वास्थ्य शब्द का वास्तव में क्या मतलब है? इसका अर्थ है 'अच्छी तरह से' होने का विचार। हम एक व्यक्ति को स्वस्थ और फिट कहते हैं जब वह शारीरिक रूप से और मानसिक रूप से अच्छी तरह से कार्य करता है।



हमारे स्वास्थ्य और फिटनेस को प्रभावित करने वाले कारक


अच्छी सेहत और फिटनेस कोई ऐसी चीज नहीं है, जिसे पूरी तरह से हम अपने दम पर हासिल कर सकें। यह उनके भौतिक वातावरण और भोजन सेवन की गुणवत्ता पर निर्भर करता है। हम गांवों, कस्बों और शहरों में रहते हैं।


ऐसे स्थानों में, यहां तक ​​कि हमारे भौतिक वातावरण हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं। इसलिए, प्रदूषण मुक्त पर्यावरण की हमारी सामाजिक जिम्मेदारी सीधे हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित करती है। हमारी दिन-प्रतिदिन की आदतें हमारे फिटनेस स्तर को भी निर्धारित करती हैं। भोजन, हवा, पानी सभी की गुणवत्ता हमारे फिटनेस स्तर के निर्माण में मदद करती है।


हमारे स्वास्थ्य और स्वास्थ्य पर पौष्टिक आहार की भूमिका: -


पहली बात यह है कि फिटनेस कहां से शुरू होती है। हमें पौष्टिक आहार लेना चाहिए। प्रोटीन, विटामिन, खनिज, और कार्बोहाइड्रेट से भरपूर भोजन बहुत आवश्यक है। शरीर की वृद्धि के लिए प्रोटीन आवश्यक है। कार्बोहाइड्रेट विभिन्न कार्यों को करने में आवश्यक ऊर्जा प्रदान करते हैं। विटामिन और खनिज हड्डियों को बनाने और हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने में मदद करते हैं।


हालांकि, असमान मात्रा में भोजन लेना शरीर के लिए अच्छा नहीं है। पर्याप्त मात्रा में आवश्यक पोषक तत्व लेना संतुलित आहार कहलाता है। संतुलित आहार लेने से शरीर और मन मजबूत और स्वस्थ रहते हैं। अच्छा भोजन बेहतर नींद, उचित मस्तिष्क के कामकाज और स्वस्थ शरीर के वजन में मदद करता है।


दैनिक आहार में सब्जियां, फल और दालें शामिल करें। एक तीन भोजन अवश्य करना चाहिए। रूहगे होने से शरीर के अंदरूनी अंगों को साफ करने में मदद मिलती है। स्वस्थ भोजन की आदत विभिन्न बीमारियों को रोकती है। आहार में वसा की मात्रा कम करने से कोलेस्ट्रॉल और हृदय रोगों से बचा जाता है।


हमारे स्वास्थ्य पर व्यायाम का प्रभाव: -


नियमित व्यायाम हमारी मांसपेशियों की शक्ति में सुधार करने में मदद करता है। व्यायाम पूरे शरीर में ऑक्सीजन की अच्छी आपूर्ति और रक्त प्रवाह में मदद करता है। दिल और फेफड़े कुशलता से काम करते हैं। हमारी हड्डियां मजबूत होती हैं और जोड़ों में दर्द मुक्त गति होती है।


हमें रोजाना कम से कम बीस मिनट अपने व्यायाम में लगाना चाहिए। रोजाना सुबह की सैर हमारे फिटनेस स्तर में सुधार करती है। हमें कठोर जिम गतिविधियों से बचना चाहिए। व्यायाम हमारे वसा को जलाता है और शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करता है। विभिन्न बाहरी खेल जैसे क्रिकेट, फुटबॉल, वॉलीबॉल आदि हमारे शरीर को फिट रखते हैं। नियमित व्यायाम हमारे शरीर के आकार को बनाए रखता है।


ध्यान, योग और स्वास्थ्य: -


प्राचीन काल से ध्यान और योग हमारे जीवन का हिस्सा हैं। वे न केवल हमें शारीरिक रूप से स्वस्थ बनाते हैं बल्कि मानसिक रूप से भी मजबूत होते हैं। ध्यान हमारे एकाग्रता स्तर में सुधार करता है। हमारा मन शांत हो जाता है और सोच सकारात्मक हो जाती है।


एक स्वस्थ दिमाग एक स्वस्थ शरीर के लिए महत्वपूर्ण है। योग हमें तनाव मुक्त बनाता है और मन की धीरज शक्ति में सुधार करता है। योग हमारे रक्तचाप को नियंत्रित करता है। योग के साथ, प्रकृति के साथ एक मजबूत बंधन स्थापित होता है। अवसाद से लड़ने के लिए मेडिटेशन सबसे अच्छा तरीका माना जाता है।


निष्कर्ष: -


एक व्यक्ति तब खुश रहता है जब वह फिट और स्वस्थ होता है। एक फिट और स्वस्थ व्यक्ति को पुरानी बीमारियों का खतरा कम होता है। स्वस्थ मन एक दबाव की स्थिति में बेहतर प्रतिक्रिया करता है। व्यक्ति का आत्मविश्वास बढ़ता है। दिल की विफलता का जोखिम काफी कम हो जाता है। वृद्धि हुई प्रतिरक्षा शक्ति के साथ शरीर कैंसर कोशिकाओं से लड़ सकता है। नियमित व्यायाम से फ्रैक्चर की तीव्रता कम हो जाती है।




Fitness haraayega pandemic ko nibandh 



hamane hamesha svaasthy aur phitanes shabd ko suna hai. jab ham kahate hain ki it svaasthy hee dhan hai ’aur thai phitanes hee kunjee hai’ ka prayog ham svayan karate hain. svaasthy shabd ka vaastav mein kya matalab hai? isaka arth hai achchhee tarah se hone ka vichaar. ham ek vyakti ko svasth aur phit kahate hain jab vah shaareerik roop se aur maanasik roop se achchhee tarah se kaary karata hai.


hamaare svaasthy aur phitanes ko prabhaavit karane vaale kaarak

achchhee sehat aur phitanes koee aisee cheej nahin hai, jise pooree tarah se ham apane dam par haasil kar saken. yah unake bhautik vaataavaran aur bhojan sevan kee gunavatta par nirbhar karata hai. ham gaanvon, kasbon aur shaharon mein rahate hain.


aise sthaanon mein, yahaan tak ​​ki hamaare bhautik vaataavaran hamaare svaasthy ko prabhaavit karate hain. isalie, pradooshan mukt paryaavaran kee hamaaree saamaajik jimmedaaree seedhe hamaare svaasthy ko prabhaavit karatee hai. hamaaree din-pratidin kee aadaten hamaare phitanes star ko bhee nirdhaarit karatee hain. bhojan, hava, paanee sabhee kee gunavatta hamaare phitanes star ke nirmaan mein madad karatee hai.


hamaare svaasthy aur svaasthy par paushtik aahaar kee bhoomika: -


pahalee baat yah hai ki phitanes kahaan se shuroo hotee hai. hamen paushtik aahaar lena chaahie. proteen, vitaamin, khanij, aur kaarbohaidret se bharapoor bhojan bahut aavashyak hai. shareer kee vrddhi ke lie proteen aavashyak hai. kaarbohaidret vibhinn kaaryon ko karane mein aavashyak oorja pradaan karate hain. vitaamin aur khanij haddiyon ko banaane aur hamaaree pratiraksha pranaalee ko badhaane mein madad karate hain.


haalaanki, asamaan maatra mein bhojan lena shareer ke lie achchha nahin hai. paryaapt maatra mein aavashyak poshak tatv lena santulit aahaar kahalaata hai. santulit aahaar lene se shareer aur man majaboot aur svasth rahate hain. achchha bhojan behatar neend, uchit mastishk ke kaamakaaj aur svasth shareer ke vajan mein madad karata hai.


dainik aahaar mein sabjiyaan, phal aur daalen shaamil karen. ek teen bhojan avashy karana chaahie. roohage hone se shareer ke andaroonee angon ko saaph karane mein madad milatee hai. svasth bhojan kee aadat vibhinn beemaariyon ko rokatee hai. aahaar mein vasa kee maatra kam karane se kolestrol aur hrday rogon se bacha jaata hai.


hamaare svaasthy par vyaayaam ka prabhaav: -


niyamit vyaayaam hamaaree maansapeshiyon kee shakti mein sudhaar karane mein madad karata hai. vyaayaam poore shareer mein okseejan kee achchhee aapoorti aur rakt pravaah mein madad karata hai. dil aur phephade kushalata se kaam karate hain. hamaaree haddiyaan majaboot hotee hain aur jodon mein dard mukt gati hotee hai.


hamen rojaana kam se kam bees minat apane vyaayaam mein lagaana chaahie. rojaana subah kee sair hamaare phitanes star mein sudhaar karatee hai. hamen kathor jim gatividhiyon se bachana chaahie.


vyaayaam hamaare vasa ko jalaata hai aur shareer mein kolestrol ke star ko niyantrit karata hai. vibhinn baaharee khel jaise kriket, phutabol, voleebol aadi hamaare shareer ko phit rakhate hain. niyamit vyaayaam hamaare shareer ke aakaar ko banae rakhata hai.


dhyaan, yog aur svaasthy: -


praacheen kaal se dhyaan aur yog hamaare jeevan ka hissa hain. ve na keval hamen shaareerik roop se svasth banaate hain balki maanasik roop se bhee majaboot hote hain. dhyaan hamaare ekaagrata star mein sudhaar karata hai. hamaara man shaant ho jaata hai aur soch sakaaraatmak ho jaatee hai.


ek svasth dimaag ek svasth shareer ke lie mahatvapoorn hai. yog hamen tanaav mukt banaata hai aur man kee dheeraj shakti mein sudhaar karata hai. yog hamaare raktachaap ko niyantrit karata hai. yog ke saath, prakrti ke saath ek majaboot bandhan sthaapit hota hai. avasaad se ladane ke lie mediteshan sabase achchha tareeka maana jaata hai.


nishkarsh: -


ek vyakti tab khush rahata hai jab vah phit aur svasth hota hai. ek phit aur svasth vyakti ko puraanee beemaariyon ka khatara kam hota hai. svasth man ek dabaav kee sthiti mein behatar pratikriya karata hai. vyakti ka aatmavishvaas badhata hai. dil kee viphalata ka jokhim kaaphee kam ho jaata hai. vrddhi huee pratiraksha shakti ke saath shareer kainsar koshikaon se lad sakata hai. niyamit vyaayaam se phraikchar kee teevrata kam ho jaatee hai.


Also read:- Essay on fitness beats pandemic


बहुत बहुत धन्यवाद कृपया लाइक और शेयर करें






Comments

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete

Post a comment

Popular posts from this blog

Education should be free for everyone

Education should be free for everyone Education is the greatest weapon for the people, but it is governed by corruption, in order to improve a country, all the people of that country must be educated, but in many circumstances, they are not able to achieve it. Maybe, if education is free, then the country will be a developed country which will lead the country in the right direction. While some may say that being cheap is the reason for education being free, others agree that our economy is good to be highly educated and if you do not conform to this standard, the opportunities are very limited, you can live a certain life. Will be able to get the style. An opportunity in which every person has an equal right to reach his full potential. Students will have more time to focus on studying and get a degree than how they pay for the school term. As a result, people can graduate on time and work in the job industry. The world is changing rapidly in which daily ta

Contribution of Technology in Education

Essay on  Contribution of Technology in Education In  the current age, we are in, technology has become an important factor. Every day comes new gadgets or software that make life easier and enhance the already existing technology and software. Simplifying life does not just play a technical role in our lives. The importance of the technology sector is constantly increasing. The more technology advances, the more benefits it provides to students at every level of education. There are numerous reasons why technology is such an important aspect of learning in schools. Whether we like it or not, technology is everywhere; And our students must know the technology to survive in post-secondary education and the professional world. Technology contributes to our educational field: Its importance is growing rapidly in the technology education sector. The more technology advances, the more benefits it provides to students at every level of education. The technology used in

Should Students get Limited access to the Internet?

Should Students get Limited access to the Internet? In my argumentative essay, I discussed that the Internet should be limited to the students. The Internet is one of the best open surges for information and learning. Students can relax and play on the Internet. But it is already extremely limited It is restricted from accessing illegal activities websites and parents do not allow their kids to see any kind of voicing thing. But the Internet should be more limited. Should students be completely banned from taking the right view of things? The positive impact of the Internet Today's youth have the latest technology to help them find information. The advent of internet-enabled handheld devices has only added to the ease of access to information. Not only can you use the Internet for communication, business, banking or entertainment, but you can also use it for education and research. The current generation of students use computers to complete their school or co